home page

आपको खाली पेट चाय पीना है पसंद तो बीपी मरीजों के लिए है खतरनाक

अगर सुबह उठकर सबसे पहले चाय पीने के शौकीन हैं तो

 | 
अगर सुबह उठकर सबसे पहले चाय पीने के शौकीन हैं तो

mahendra india news, new delhi

घर में मेहमान आए या सुबह जल्दी उठते ही चाय की याद आती है। इंडिया में तो चाय का हर कोई दीवाना है। क्योंकि सुबह सोकर उठने से लेकर लेट नाइट जगने तक के लिए लोग चाय पीते हैं,  कभी सिर दर्द तो कभी किसी बात को लेकर तनाव मिटाने के लिए चाय ही मददगार साबित होती है। बारिश के समय तो लोग चाय पकौड़ा बड़े चाव से खाते हैं। वहीं ठंड के मौसम में भी चाय की खपत काफी बढ़ जाती है, सर्दी से बचने के लिए लोग हर दूसरे घंटे अदरक वाली चाय का सेवन करते हैं।

आपको बता दें कि कई व्यक्तिचाय का सेवन गलत तरीके से भी करते हैं, कभी अधिक चाय पी लेते हैं, तो कभी खाली पेट चाय पीते हैं। या फिर कभी खाना खने के बाद रात्रि में चाय पी लेते हैं, आपको बता दें, चाय जितना ही कई छोटी समस्याओं से राहत दिलाती है। उतना ही इसके गलत तरह से पीने पर सेहत के लिए खतरनाक भी साबित हो सकती है। अगर आप भी खाली पेट चाय पीते हैं, तो पीने से पहले कुछ बातें जरूर जान लें। 

WhatsApp Group Join Now

कई व्यक्ति इस बात को लेकर कंफ्यूज रहते हैं कि हाई बीपी और हार्ट अटैक के मरीज क्या खाली पेट चाय पी सकते हैं। कहीं ये हाई बीपी के मरीज के लिए नुकसानदायक तो नहीं, आपको बता दें कि दरअसल, आज के समय में हर दूसरा व्यक्ति हाई बीपी और दिल की बीमारी से ग्रस्त है. इसका कारण है गड़बड़ लाइफस्टाइल। 

ऐसे में सेहत एक्सपर्ट का ये मानना है कि ज्यादातर लोग चाय से ही अपने दिन की शुरुआत करते हैं। यहां तक कि वो भी जो हाई बीपी और हार्ट के भी पेशेंट हैं। अब सवाल यह है कि क्या खाली पेट चाय पीना हाई बीपी के मरीजों के लिए खतरे की घंटी है। 

मरीजों को खाली पेट चाय पीना चाहिए या नहीं-
अगर कोई हाई बीपी के मरीज हैं तो हमेशा दूध वाली चाय ही पिएं, क्योंकि अगर आप दूध वाली चाय पीते हैं तो इससे आपका बीपी कम होने के बजाय बढ़ा सकता है, इसी के साथ ही दूध वाली चाय पीे से आपको गैस और ब्लड वेसेल्स को सिकुड़न की समस्या हो सकती है। इसलिए खाली पेट दूध वाली चाय पीने से बचें। 

आपको ये भी बता दें कि अगर सुबह उठकर सबसे पहले चाय पीने के शौकीन हैं तो, ऐसे में हाई बीपी के मरीजों के लिए ग्रीन टी एक बेहतरीन ऑप्शन है। इससे आपकी हाई बीपी की समस्या कम हो सकेगी. ग्रीन टी एंटीऑक्सीडेंट्स और कैटेचिन से भरपूर होती है, इससे ब्लड सर्कुलेशन भी ठीक रहता है. इसके अलावा आप ब्लैक टी का भी सेवन कर सकते हैं।