home page

सिरसा में आशा वर्कर्स फिर से करेंगी आंदोलन, 12 को सीएमओ को सौंपेगी ज्ञापन

लंबित मांगों को लेकर आशा वर्कर्स ने मीटिंग में बनाई रणनीति

ताजा खबरों, बिजनेस, केरियर व नौकरी संबंधित खबरों के लिए

व्हाट्सअप ग्रुप

से जुड़े

 | 
लंबित मांगों को लेकर आशा वर्कर्स ने मीटिंग में बनाई रणनीति

mahendra india news, new delhi

आशा वर्कर्स यूनियन हरियाणा की राज्य स्तरीय ऑनलाइन मीटिंग राज्य महासचिव सुनीता की अध्यक्षता में हुई। मीटिंग में अनेक महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। जिला प्रधान दर्शना, सचिव पिंकी शाक्य व जिला कोषाध्यक्ष शिमला रानी ने संयुक्त रूप से बताया कि 73 दिन तक प्रदेश भर की आशा वर्कर्स ने हड़ताल की।

उन्होंने कहा कि इसके बाद आशाओं के मानदेय में कुछ बढ़ोतरी की गई है। आंदोलन के दौरान सरकार के साथ वार्ता में सहमति के बाद 16 अक्टूबर को हड़ताल के दौरान का 6 हजार रुपये मानदेय सभी आशाओं को दिए जाने का पत्र जारी हो गया था, लेकिन अब सरकार हड़ताल के दौरान के मानदेय आशाओं को नहीं देना चाहती और पिछले 6 माह से आशा पे ऐप भी बंद है। 


उन्होंने कहा कि  जिस कारण से आशा वर्कर्स के मानदेय का भुगतान नहीं हो रहा है। प्रदेश की तमाम आशा वर्कर्स अनेकों परेशानियों का सामना कर रही है। अब आशाओं की समस्याओं को देखते हुए आशा वर्कर्स यूनियन ने दोबारा आंदोलन निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि 12 जनवरी को तमाम जिला सिविल सर्जन कार्यालय पर प्रदेश की तमाम आशा वर्कर्स धरना प्रदर्शन करेंगी। अगर सरकार द्वारा 1 दिन के प्रदर्शन से समस्याओं का समाधान नहीं किया गया तो 15 जनवरी से लगातार जिला स्तर पर आंदोलन शुरू किया जाएगा।