home page

Chanakya Niti: जवान होते ही लड़कियां अकेले में करती हैं ये काम, आप भी रह जाएंगे हैरान

 | 
Chanakya Niti: जवान होते ही लड़कियां अकेले में करती हैं ये काम, आप भी रह जाएंगे हैरान

Chanakya Niti: जीवन में कुछ काम ऐसे भी होते है जिस काम को करने में हर किसी को काफी मजा आता है, चाहे वो कोई भी क्यों न किसी भी उम्र किसी भी जाति का पर इस तरह के काम खास कर लड़कियों को काफी मजा आता है।

आज की अत्यंत आधुनिक दुनिया में भी, लाखों लोग कौटिल्य नीति और उसमें लिखे प्रत्येक शब्द को प्रतिदिन न सिर्फ पढ़ते हैं बल्कि अक्षरशः अपने जीवन में उतारते भी है उसमे लिखे शब्दों से प्रेरित होकर, कई राजनेता, व्यवसायी आज भी चाणक्य उद्धरणों को आधुनिक जीवन में उपयोगी पाते हैं।

आचार्य चाणक्य को हर क्षेत्र में चाहे वो राजनीति हो या व्यापार या फिर धन इतना सटीक ज्ञान था कि लोग आज भी सौ प्रतिशत मानते हैं कि उनके सलाह बहुमूल्य हैं इतने सही है और उपयोगी है आज के दौर में भी की लोग उन पर चलने से पहले दो बार सोचने की जरूरत भी नहीं समझते है ।

WhatsApp Group Join Now

आचार्य चाणक्य के जिस ज्ञान की बात आज हम करेंगे उस ज्ञान को नैतिकता के नाम से जाना जाता है। चाणक्य नीति आपको जीवन में कुछ भी हासिल करने में मदद करती है, चाहे आप किसी भी क्षेत्र में हों।इसमें आचार्य चाणक्य ने अपने नीति शास्त्र में महिलाओं की इच्छा का उल्लेख किया है।

आचार्य चाणक्य ने स्त्री और पुरुष की तुलना करके अपने विचार व्यक्त किए हैं। महिलाओं में पुरुषों की तुलना में दोगुनी भूख होती है।चाणक्य नीति मूल रूप से संस्कृत में लिखी गई थी, जिसे बाद में अंग्रेजी और कई अन्य भाषाओं के साथ-साथ हिंदी में भी अनुवादित किया गया।

इस राजनीति में आचार्य चाणक्य ने नारी की भूख, लज्जा, अर्थ, लज्जा, साहस और वासना का वर्णन किया है। आचार्य चाणक्य के उपरोक्त श्लोक के अनुसार नारी शक्ति का वर्णन किया गया है।

आचार्य चाणक्य के अनुसार महिलाओं को पुरुषों की तुलना में दोगुनी भूख लगती है।आज की लाइफस्टाइल में काम से महिलाओं की डाइट तो बाधित होती है, लेकिन वे अपनी भूख को कंट्रोल में रखती हैं।

आचार्य चाणक्य की चाणक्य नीति के अनुसार पुरुषों की तुलना में महिलाओं में शर्मिंदगी चार गुना अधिक होती है। महिलाओं को इस कदर शर्मिंदगी उठानी पड़ती है कि वो अक्सर कुछ भी कहने की सोचती हैं।

चाणक्य नीति के अनुसार महिलाएं शुरू से ही साहसी होती हैं। वहीं महिलाएं भी पुरुषों की तुलना में छह गुना बहादुर होती हैं।इसलिए नारी को शक्ति की प्रतिमूर्ति के रूप में भी देखा जाता है।

पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक कामेच्छा आचार्य चाणक्य के अनुसार महिलाओं में भी काम की इच्छा पुरुषों के मुकाबले आठ गुना ज्यादा होती है, लेकिन उनमें शर्म और सहनशीलता बहुत होती है।इसलिए कोई भी महिला इसका खुलासा नहीं करतीं महिलाओं को अपने संस्कारों का भी ध्यान रहता है इसीलिए भी वे मौन रहना पसंद करती हैं।