home page

सिरसा के एसपी का सराहनीय कदम, युवाओं को नशे से दूर रखने तथा खेलों से जोड़ने के लिए खुद संभाली कमान

एसपी सिरसाा जिले के गांव-गांव में जाकर खेल गतिविधियों के माध्यम से युवाओं को  नशा मुक्ति का दे रहे है संदेश

ताजा खबरों, बिजनेस, केरियर व नौकरी संबंधित खबरों के लिए

व्हाट्सअप ग्रुप

से जुड़े

 | 
 एसपी सिरसाा जिले के गांव-गांव में जाकर खेल गतिविधियों के माध्यम से युवाओं को  नशा मुक्ति का दे रहे है संदेश

mahendra india news, new delhi

हरियाणा के सिरसा जिले में तैनात एसपी विक्रांत भूषण नशे पर कड़ा प्रहार कर रहे हैं। उनके प्रयासों से गांव गांव में ुमुहिम नशे के खिलाफ चलाई जा रही है। पुलिस द्वारा नशे के खिलाफ चलाई जा रहे जागरूकता अभियान के तहत एक सराहनीय पहल की गई है। मुहिम के तहत युवाओं को नशे से दूर रखने तथा उन्हें खेलों से जोड़ने के लिए स्वयं एसपी विक्रांत भूषण फील्ड में उतर चुके हैं। 

सिरसा के एसपी अब तक करीब एक दर्जन गांवों में जाकर वहां के युवाओं तथा ग्रामीणों को नशा के खिलाफ जागरूक कर चुके हैं। एसपी विक्रांत भूषण ने बताया कि इस अभियान का उद्देश्य युवाओं को खेल गतिविधियों से जोड़कर उन्हे नशे से दूर रखना है । 


एसपी ने बताया कि जिला स्तर पर पुलिस जवानों की वॉलीबॉल, कबड्डी, क्रिकेट तथा हैंडबॉल की चार  टीमों का गठन किया गया है, जो ग्रामीण क्षेत्र में सुबह और शाम दोनों समय जाकर वहां के युवाओं के साथ मैच लगाकर उन्हें नशा मुक्ति का संदेश दे रही है। 

एसपी ने बताया कि पुलिस के जागरूकता अभियान के सार्थक परिणाम सामने आ रहे हैं और गांव के युवा खेलों की ओर आकर्षित हो रहे हैं । पुलिस अधीक्षक विक्रांत भूषण ने बताया कि जिला पुलिस द्वारा जहां खेलों के माध्यम से युवाओं को नशे से दूर रहने का संदेश दिया जा रहा है, वहीं उन्हें नशा छोड़ने के लिए भी प्रेरित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पुलिस के अभियान से प्रभावित होकर जिला के करीब 100 से ज्यादा युवा नशा छोड़ने के लिए आगे आ चुके हैं, जिनका जिला के नागरिक अस्पताल में रजिस्ट्रेशन करवा कर उनका स्थानीय प्रशासन के सहयोग से इलाज करवाकर उन्हें फिर से समाज की मुख्य धारा में शामिल किया जा रहा है।


एसपी विक्रांत भूषण ने बताया कि जिला पुलिस की ओर से जहां खेलों, नुक्कड़ नाटकों तथा सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से युवाओं को नशा से दूर रहने का संदेश देकर उन्हें नशे के खिलाफ जागरूक किया जा रहा है, वहीं नशे के सौदागरों के खिलाफ जिला पुलिस द्वारा ताबड़तोड़ कार्रवाई की जारी है। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि नशे की काली कमाई से अर्जित की गई संपत्ति को चिन्हित कर तस्करों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी अमल में लाई जा रही है।  

एसपी ने बताया कि वर्ष 2023 की अब तक की अवधि के दौरान जिला पुलिस मादक पदार्थ अधिनियम के तहत  288 अभियोग दर्ज कर 478 लोगों को जेल की सलाखों के पीछे भेज चुकी है। उन्होंने बताया कि इस अवधि के दौरान पकड़े गए लोगों के कब्जा से 33 किलो 523 ग्राम अफीम, 1351 किलो 371 ग्राम डोडा व चूरापोस्त , 3 किलो 567 ग्राम हैरोइन तथा 8335 नशीली प्रतिबंधित गोलियां बरामद की गई है। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि मेडिकल नशा बेचने वालों के खिलाफ भी जिला पुलिस द्वारा कड़ी कानूनी कार्रवाई की जा रही है, और वर्ष 2023 की अब तक की अवधि के दौरान मेडिकल नशा बेचने वालों के खिलाफ करीब 12 अभियोग दर्ज कर 18  लोगों को गिरफ्तार किया गया है, तथा मेडिकल स्टोरों को भी सील किया गया है। 

एसपी विक्रांत भूषण ने बताया कि जिला सिरसा पुलिस प्रत्येक गांव को कवर करेगी तथा वहां की पंचायतो के सहयोग से मिलकर खेल मैदान तैयार करवा कर युवाओं की विभिन्न खेल प्रतियोगिताएं आयोजित करवाएगी। पुलिस अधीक्षक ने कहा है कि जिला पुलिस अपने स्तर पर नशे के खिलाफ अभियान चलाए हुए हैं, परंतु इस अभियान की संपूर्ण सफलता के लिए समाज के प्रत्येक नागरिक को आगे आकर अग्रणी भूमिका निभानी होगी। उन्होंने कहा कि नशे के खिलाफ चलाए जा रहे सामाजिक आंदोलन में प्रत्येक  नागरिक अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें ,ताकि इस अभियान को सफलता के शिखर तक ले जाया जा सके। एसपी विक्रांत भूषण ने आमजन से भी आवाह्न किया है, कि नशा तस्करों की असली जगह जेल में है, इसलिए निसंकोच  होकर नशे के सौदागरों के बारे में पुलिस को सूचना दें, ताकि उनके खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई की जा सके।