home page

दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने ठुकराया केंद्र का प्रस्ताव, बवाना स्टेडियम नहीं बनेगी अस्थाई जेल

दिल्ली सरकार में गृह मंत्री कैलाश का बड़ा बयान

ताजा खबरों, बिजनेस, केरियर व नौकरी संबंधित खबरों के लिए

व्हाट्सअप ग्रुप

से जुड़े

 | 
दिल्ली सरकार में गृह मंत्री कैलाश का बड़ा बयान

mahendra india news, new delhi
दिल्ली में किसान का काफिल जगह जगह से बढ़ रहा है। अब दिल्ली से बड़ी खबर आ रही है। दिल्ली की केजरीवाल सरकार में गृह मंत्री ने बड़ा बयान दिया है। दिल्ली में किसानों के कूच के मद्देनजर बवाना स्टेडियम को अस्थाई जेल बनाने के केंद्र के प्रस्ताव को दिल्ली सरकार ने ठुकरा दिया है। आपको बता दें कि दिल्ली सरकार में गृह मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा कि किसानों की मांगें वास्तविक हैं। उन्होंने आगे ये भी कहा कि शांतिपूर्ण विरोध करना हर नागरिक का संवैधानिक अधिकार है। इसलिए किसानों को गिरफ्तार करना गलत है। अन्नदाता को जेल में डालना गलत है। इस पोस्ट को उन्होंने सोशल मीडिया एक्स पर भी जानकारी दी है 

किसान मांगों को लेकर दिल्ली की तरफ कुच कर रहे हैं। किसान आंदोलन की वजह से सबसे ज्यादा कोई है तो वह आम आदमी है। स्कूल से लेकर कार्यालत तक जाने वाला हर कोई लेट हो रहा है। बता दें कि दिल्ली आने वाली और जाने वाली सभी सड़कों पर गाड़ियों की लंबी कतारें लगी हैं। 

आपको बता दें कि किसानों के आंदोलन के कारण दिल्ली के चिल्ला बॉर्डर, गुरुग्राम बॉर्डर, गाज़ीपुर बॉर्डर, सिंघु बॉर्डर, शंभु बॉर्डर और कालिंदी बॉर्डर पर पर लंबा जाम लगा है। दिल्ली पुलिस का कहना है कि ट्रैफिक में किसी तरह की रुकावट ना हो, इसके लिए हर तरह के उपाय किये गए हैं।ा लेकिन, इसके बावजूद दिल्ली की सभी सीमाओं पर लंबा जाम दिख रहा है। 

शंभू बॉर्डर पर पुलिस और किसानों के बीच टकराव, छोड़े गए आंसू गैस के गोले

दिल्ली यूपी और हरियाणा की पुलिस ने सुरक्षा बढ़ा दी गई है

देश की सबसे बड़ी खबरों में शंभू बॉर्डर से आ रही है। एमएसपी सहित कई मांगों को लेकर किसान दिल्ली कूच कर रहे हैं। इस बीच शंभू बॉर्डर पर पुलिस और किसानों के बीच टकराव हुआ है। किसानों को काबू करने और तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े है।  भीड़ जमा होने से रोकने और भीड़ को नियंत्रित करने के लिए आरएएफ लगाई हुई है। 

आपको बता दें कि 
किसानों ने दिल्ली में विरोध प्रदर्शन करने का मंगलवार को ऐलान किया हुआ है। इस प्रदर्शन के मध्यनजर दिल्ली बॉर्डर को सील कर किया हुआ है। इसी के साथ ही भारी संख्या में पुलिस बलों की तैनाती की गई है। किसानों के आने वाले हर एंट्री प्वाइंट पर सुरक्षा अभेद्द किया हुआ। आपको बता दें कि सिंघु बॉर्डर, गाजीपुर, टिकरी, चिल्ला बॉर्डर, कालिंदी कुंज-डीएनडी-नोएडा बॉर्डर पर किसी तरह की भीड़ जुटाने पर पाबंदी लगा दी गई है। 

किसानों के आंदोलन को लेकर दिल्ली यूपी और हरियाणा की पुलिस ने सुरक्षा बढ़ा दी गई है।  इन एंट्री प्वाइंट पर रोड रोलर, क्रेन, जेसीबी और कटीले तार लगाए गए है। बता दें कि  किसानों की एंट्री को रोकने के लिए दिल्ली पुलिस के साथ अर्धसैनिक बलों की भारी तैनाती की गई हैञ पुलिस ने तय किया है  किसी भी हालत में किसानों को ट्रैक्टर बस और दूसरे वाहनों से दिल्ली में घुसने नहीं दिया जाएगा।