home page

Hindi News: क्या आपकी जमीन के नीचे सोना दबा हुआ है? जल्दी ऐसे पता करें

 | 
Hindi News: क्या आपकी जमीन के नीचे सोना दबा हुआ है? जल्दी ऐसे पता करें

सोने की कीमत हर साल बढ़ती है, यही वजह है कि लोग अब सोने में निवेश करना ज्यादा फायदे का सौदा मानते हैं। हालाँकि, सोना इतना महंगा है कि इसे खरीदने के लिए आपके पास बहुत सारे पैसे होने चाहिए।

लेकिन अगर आपकी ही जमीन के नीचे सोना दबा हो तो क्या होगा? ऐसा कई बार होता है. आइए आज हम आपको इस लेख में बताते हैं कि जमीन के नीचे दबे सोने के बारे में कैसे पता लगाया जाए। इसके लिए कौन सी मशीनों का उपयोग किया जाता है?

जीपीआर और वीएलएफ तकनीक

जमीन के नीचे किसी भी धातु का दो तरह से पता लगाया जा सकता है। इसमें पहला तरीका है जीपीआर यानी ग्राउंड पेनेट्रेटिंग रडार टेक्नोलॉजी और दूसरा तरीका है वीएलएफ यानी वेरी लो फ्रिक्वेंसी टेक्नोलॉजी।

 इनकी मदद से भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण और भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण की टीमें जमीन के नीचे सोने या किसी धातु का पता लगाती हैं।

WhatsApp Group Join Now

आपको बता दें, ASI यानी आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया एक भारतीय सरकारी एजेंसी है जो भारत के संस्कृति मंत्रालय से जुड़ी है. 

जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया GSI भारत की एक वैज्ञानिक एजेंसी है। यह भारत सरकार के खान मंत्रालय के अंतर्गत गठित एक सरकारी संगठन है।

ये दोनों तकनीकें कैसे काम करती हैं?

जीपीआर यानी ग्राउंड पेनेट्रेटिंग रडार एक ऐसी विधि है जिसमें मिट्टी की हर परत की जांच की जाती है और इस जांच के आधार पर यह तय किया जाता है कि इस मिट्टी के नीचे कौन सी धातु मौजूद हो सकती है।

 वहीं वीएलएफ यानी वेरी लो फ्रीक्वेंसी एक ऐसी तकनीक है जिसकी मदद से यह पता लगाया जाता है कि जमीन के अंदर सोना, चांदी या तांबा है या नहीं।

दरअसल, जब वीएलएफ को जमीन पर लगाया जाता है तो यह जमीन के उस हिस्से के चारों ओर एक विद्युत चुम्बकीय क्षेत्र बनाता है।

फिर मशीन से निकलने वाली तरंगें धातु से टकराकर एक विशेष प्रकार की ध्वनि उत्पन्न करती हैं।

उस आवाज के आधार पर ही पता चलता है कि जमीन के नीचे कौन सी धातु है। हालाँकि, भारत में अगर आपको अपनी जमीन के नीचे सोना या खजाना दबा हुआ मिले।

सबसे पहले आपको इसकी सूचना संबंधित अधिकारियों को देनी होगी। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो यह एक तरह का अपराध है और इसके लिए आपके खिलाफ कार्रवाई भी हो सकती है।