home page

पाकिस्तान से आया शिकारी बाज, पंख में लगा था जीपीएस सिस्टम

बाज की मौत के बाद हुए पोस्टमार्टम में चौकाने वाला खुलासा हुआ

ताजा खबरों, बिजनेस, केरियर व नौकरी संबंधित खबरों के लिए

व्हाट्सअप ग्रुप

से जुड़े

 | 
बाज की मौत के बाद हुए पोस्टमार्टम में चौकाने वाला खुलासा हुआ

mahendra india news, new delhi

भारत पाकिस्तान सीमा पर देश के जवान कड़ी सर्दी में भी पेनी नजर रखे हुए हैं। सीमा स्थित शाहगढ़ एरिया में बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स ने एक पाकिस्तानी बाज को दबोचा गया था। इसकी डीएनपी के रेस्क्यू सेंटर में बाज ने दम तोड़ दिया। बाज की मौत के बाद हुए पोस्टमार्टम में चौकाने वाला खुलासा हुआ है,  इस बाज के पंखों में जीपीएस छिपा था, इसीके साथ उसके पैर के पंजों पर छल्ला फंसा था।  छल्ले पर अरबी भाषा में कुछ लिखा है, इससे पहले इस एरिया में दो कबूतर भी आ चुके हैं। बता दें कि भारत-पाकिस्तान सीमा में सामने आए इस केस की जांच सुरक्षा एजेंसिया कर रही हैं। 


बताया जा रहा है कि जैसलमेर की अंतर्राष्ट्रीय भारत-पाक सीमा के पास शाहगढ एरिया में सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने एक शिकारी बाज को बुधवार को दबोचा लिया था। ट्रेड फाल्कन प्रजाति के इस शिकारी बाज की जांच के बाद बीएसएफ ने बाज को पुलिस को सुपुर्द कर दिया। यहां पुलिस ने बाज को वन विभाग को सौपा जहां वन विभाग की मॉनिटरिंग में बाज की देखरेख हो रही थी। इसके बाद वन विभाग की टीम उसे पशु चिकित्सालय ले गई। जहां चिकित्सकों की टीम ने बाज का पोस्टमार्टम कर शव का अंतिम संस्कार किया। 


अभी आपको बता दें कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही अब मौत के कारणों का खुलासा हो पाएगा। वहीं, सम्भवत: घायल होने और घबराहट से बाज की मौत हुई है। हालांकि, जांच रिपोर्ट आने के बाद ही सारे मामले का खुलासा हो पाएगा। पाकिस्तान बीते कई माह से जम्मू-कश्मीर, पंजाब और राजस्थान सीमा पर ड्रोन से हथियारों की तस्करी और नशे की खेप पहुंचा रहा है। बीएसएफ और सेना ऐसी हरकतों पर लगातार नजर रखते हुए पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई की हर साजिश को फेल कर रही है। 

आपको बता दें कि ठंड मौसम में नवंबर और दिसंबर में पाकिस्तान ने कई बार सीजफायर का उल्लंघन किया है, इसके साथ ही उसने आतंकवादी घुसपैठ कराने की कोशिश की है। पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में उसके टेरर कैंप में फिर हलचल है। इससे भारतीय सुरक्षा एजेंसियों की पैनी नजर बनी हुई है।