home page

हरियाणा में अंतरजातीय प्रेम विवाह करने के लिए बेटे ने प्रेमिका के साथ मिलकर पिता को टीके की ओवरडोज लगवा कर मार डाला

 | 
 बेटे की प्रेमिका नर्स बनकर आई घर, पिता को मार डाला
mahendra india news, new delhi

हरियाणा के अंदर ऐसा मामला सामने आया है जिसे आप सुनकर हैरान हो जाएंगे।  अंतरजातीय प्रेम विवाह करने के लिए बेटे ने प्रेमिका के साथ मिलकर अपने पिता की जान ले ली। इसके लिए दोनों ने मिलकर पिता के टीके की ओवरडोज लगवा दी। 


जानकारी के अनुसार गन्नौर क्षेत्र के गांव पुरखास राठी में कैंसर की रोकथाम के नाम पर टीका लगाने से सहायक पंप ऑपरेटर की मौत मामले में खुलासा हुआा है। जिस पर पुलिस ने मृतक के बेटे और उसकी प्रेमिका को गिरफ्तार किया है। बेटे ने प्रेमिका के साथ मिल कर अपने पिता और भाई की मर्डर करने का षड्यंत्र रचा था। 


बताया जा रहा है कि अपनी सहकर्मी के साथ अंतरजातीय प्रेम विवाह करना चाहता था, इसके लिए उसे डर था कि उसके बाप व भाई उसकी शादी में बाधा बनेंगे। इसी को लेकर प्रेमिका के साथ मिल कर दोनों का मर्डर करने का ऐसा षड्यंत्र रच डाला। इसके लिए आरोपित लड़के ने प्रेमिका को अपने घर भेजकर अपने पिता को टीके की ओवरडोज लगवा दी, इसस उसकी मौत हो गई।  पुलिस ने आरोपित बेटे नवीन व उसकी प्रेमिका सुषमा को गिरफ्तार कर लिया है।

WhatsApp Group Join Now

यही नहीं आरोपित मिलकर भाई को भी रास्ते से हटाना चाहता था, लेकिन उसने टीका लगवाने से मना कर दिया था। 


आपको बता दें कि गांव पुरखास राठी के रहने वाले परमिंदर ने 12 मई को गन्नौर थाना पुलिस में शिकायत दी थी कि उसके पिता दलबीर जनस्वास्थ्य विभाग में सहायक पंप ऑपरेटर कार्यरत थे। उसके पिता 12 मई को घर पर ही थे। उनके घर पर एक महिला आई थी और उसने बताया था कि वह खानपुर कलां मेडिकल कॉलेज अस्पताल में तैनात है। वहां से आई हैं।

इसके बाद आरोपित महिला ने बताया था कि वह कैंसर की रोकथाम के लिए टीकाकरण कर रही हैं। इसके बाद उनके पिता दलबीर व मां ने टीकाकरण करवा लिया। टीका लगवाने के कुछ वक्त बाद उनके पिता की हालत बिगड़ गई थी। उन्हें खानपुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल ले गये, इसके बाद वहां पर तो चिकित्सक ने उन्हें डेड घोषित कर दिया था। इस केस में पुलिस ने गैर इरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया था।

ऐसे पकड़ में आए दोनों
पुलिस महिला का पता लगाने के लिए गांव में लगे सीसीटीवी फुटेज जांचने में जुटी थी। इस दौरान पुलिस को गांव के बस स्टैंड पर लगे सीसीटीवी में फुटेज मिली। जिसमें दलबीर का छोटा बेटा नवीन एक महिला के साथ बाइक पर आता-जाता दिखाई दिया। पुलिस ने शक के आधार पर नवीन से सख्ती से पूछताछ की तो उसने हत्या करना कबूल कर लिया।


बताया जा रहीा है कि आरोपित नवीन सोनीपत के निजी अस्पताल में वॉर्ड ब्वॉय के तौर पर कार्यरत था। इसी अस्पताल में सुषमा बतौर स्टाफ नर्स जॉब करती थी। दोनों के बीच दोस्ती हो गई। इस दोस्ती के बाद दोनों शादी करने की ठान ली, लेकिन दोनों की जाति अलग होने के कारण उन्हें घर वालों के मना करने का डर था। नवीन को लगा कि यदि वह अपने पिता व भाई को इस बारे में बताएगा तो वह शादी करने से मना कर देंगे। इसी के चलते उसने पिता व भाई को रास्ते से हटाने का स्कीम बना डाली 


इसके बाद तो नवीन व सुषमा दोनों काफी वक्त से अस्पताल में काम करते थे। उन्हें दवाओं के बारे में काफी जानकारी थी। इसके लिए मिलकर अस्पताल से एटरा क्यूरियम का इंजेक्शन चुरा कर लाया था।

महिला ने जो टीका लगाया है। इस एटरा क्यूरियम इंजेक्शन मांसपेशियों को सुन्न करने के लिए दिया जाता है। उसे पता था कि इंजेक्शन की अगर ओवरडोज दे दी जाए तो मुत्यु हो सकती है। उसने सुषमा को अपने पिता व भाई को टीका लगाने को कहा था। वह सुषमा को अस्पताल से अपनी बाइक पर बैठा कर गांव लेकर गया। 

महिला सुषमा उनके घर आई और उसके पिता को ओवरडोज यानि करीब 10 एमएल डोज दी, जो काफी अधिक थी। इससे उनकी मौत हो गई। भाई ने इंजेक्शन लगवाने से मना कर दिया। जबकि उसकी मां को पानी में पैरासिटामोल मिलाकर उसका इंजेक्शन लगा दिया गया। इससे उनकी तबीयत नहीं बिगड़ी।

पुलिस ने हत्या की धारा जोड़ी
थाना गन्नौर पुलिस ने केस में मर्डर की धारा जोड़ दी है। पुलिस ने आरोपित नवीन के साथ ही उसकी प्रेमिका सुषमा को गिरफ्तार कर लिया है। दोनों को अदालत में पेश कर दो दिन के रिमांड पर लिया है।


ुपुलिस थाना के प्रभारी सत्येंद्र कुमार ने बताया कि गांव पुरखास में टीका लगाने से मौत के केस में जांच करने पर पता लगा था कि बेटे ने ही पिता की हत्या का षड्यंत्र रचा था। आरोपित के पिता को टीका लगवाने वाली उसकी महिला नर्स को गिरफ्तार कर लिया है। दोनों को रिमांड पर लेकर गहनता से पूछताछ की जा रही है।