home page

हरियाणा में यहां पर जमीनों के रेट होंगे ऊंचे, 39 हजार करोड़ की लागत से बन रहा नया एक्सप्रेसवे

इन जिलों से से गुजरेगा यह एक्सप्रेस हाईवे,  जाम से मिलेगी मुक्ति 

ताजा खबरों, बिजनेस, केरियर व नौकरी संबंधित खबरों के लिए

व्हाट्सअप ग्रुप

से जुड़े

 | 
इन जिलों से से गुजरेगा यह एक्सप्रेस हाईवे,  जाम से मिलेगी मुक्ति 

mahendra india news, new delhi

देशभर में जहां सड़़कों का जाल बिछ रहा है। हरियाणा प्रदेश भी इससे अछूता नहीं रहा है। प्रदेश में भी तेजी से सड़कों का निर्माण किया जा रहा है। भारत माला परियोजना के दिल्ली-कटरा ग्रीन फील्ड एक्सप्रेसवे का निर्माण तेजी से चल रहा है। आपको बता दें कि बहादुरगढ़ के गांव निलोठी से शुरू होने वाले दिल्ली-कटरा ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस-वे के पैकेज वन और पैकेज टू का 75 प्रतिशत कार्य पूरा हो चुका है।इससे आने वाले समय में हरियाणा के अंदर जमीनोंं के रेट काफी ऊंचे होंगे। 

बता दें कि इसे मार्च 2024 तक खोलने की योजना है। 4 महीने में इसके वाहनों से भर जाने की उम्मीद है। जम्मू में इसे मार्च 2024 और कटरा में जून 2025 तक पूरा किया जाना है।


आपको ये भी बता दें कि अधिकारियों के अनुसार विदेशों की तर्ज पर एक्सप्रेस-वे पर सुविधा केंद्र बनाए जाएंगे। इसमें खाने पीने की सुविधा, वाहन मरम्मत, पेट्रोल पंप और विश्राम कक्षों में सीएनजी के साथ ईवी (इलेक्ट्रिक वाहन) चार्जिंग की सुविधा मिलेगी। 


इसी के साथ साथ आपातकालीन सहायता प्रदान करने के लिए एंबुलेंस, फायर ब्रिगेड, ट्रॉमा सेंटर और ट्रैफिक पुलिस की टीमें 24 घंटे एक्सप्रेसवे पर तैनात रहेंगी। सोनीपत में ऐसे 3 सुविधा केंद्र स्थापित किए जा रहे हैं। प्रथम रुखी के पास, द्वितीय नूरनखेड़ाऔर तृतीया छावड़ी गांव में होगा।

ये है लागत 39,000 करोड़ रुपये है
बता दें कि कुल 21 पैकेजों में से 5 का निर्माण हरियाणा में किया जा रहा है। सारे प्रोजेक्ट की लागत 39,000 करोड़ रुपये है, जिसकी कुल लंबाई 670 किलोमीटर है। इनमें से मुख्य एक्सप्रेसवे 570 किलोमीटर लंबा है, निलोठी से गुरदासपुर तक ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे 397.712 किलेामीटर लंबा होगा और गुरदासपुर से कटरा तक ब्राउनफील्ड एक्सप्रेसवे 122.288 किलोमीटर लंबा होगा।


आपको बता दें कि नकोदर से अमृतसर तक ग्रीनफील्ड यात्रा 99 किलोमीटर होगी। एक्सप्रेसवे दिल्ली से कटरा तक की यात्रा को आसान बना देगा। इससे माता वैष्णो देवी के दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं को फायदा होगा। 120 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार होगी।