home page

पुराना किस्सा : फतेहाबाद के अंदर रैली करने आए अटल बिहारी वाजपेयी के साथ आए मोदी, मोदी को मंच पर जाने से रोक दिया ​​​​​​​

 | 
अटल बिहारी वाजपेयी
 mahendra india news, new delhi

लोकसभा चुनाव को लेकर हर तरफ चर्चा आजकल हो रही है। गांव हो या शहर हर चौक चौराहों पर चुनाव की चर्चा हो रही है। अब बात कर रहे हैं संसदीय चुनावों को लेकर अब शह-मात का खेल शुरू हो गया है। सिरसा संसदीय सीट पर अतीत में हुए चुनावों में देश के बड़े चेहरे भी प्रचार के लिए आते रहे हैं। 


चुनाव का आज आपको ऐसा किस्सा बता रहे हैं। जिसे आप सुनकर हैरान हो जाएंगे। 20 अगस्त 1999 को तत्कालीन देश के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने फतेहाबाद में एक रैली को संबोधित किया। वे उस समय इनैलो-भाजपा गठबंधन के प्रत्याशी डा. सुशील इंदौरा के लिए प्रचार करने आए थे। उनके साथ बीजेपी हरियाणा के तत्कालीन प्रभारी नरेंद मोदी भी मौजूद थे। 

WhatsApp Group Join Now


ये किस्सा हुआ 
इस जनसभा के दौरान मोदी के साथ एक अजीब किस्सा हुआ। उस समय मंच पर तीन ही व्यक्तियों को ही पार्टी के प्रत्याशी डा. इंदौरा, तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी एवं इनैलो सुप्रीमो व सीएम ओमप्रकाश चौटाला को बैठने की अनुमति थी। ऐसे में फतेहाबाद के तत्कालीन पुलिस कप्तान मनोज यादव ने मोदी को मंच पर जाने से मना कर दिया। कुछ वर्षों के बाद स्थितियां बदलीं। 2014 में देश के नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बन गए। 2019 में फिर से फतेहाबाद में आए। रैली थी और तब मनोज यादव हरियाणा के पुलिस महानिदेशक थे। 


फतेहाबाद के अंदर रैली करने आए अटल बिहारी वाजपेयी के साथ आए मोदी, मोदी को मंच पर जाने से रोक दिया 

1999 में वाजपेयी आए थे प्रचार करने आए थे, तब हुई ऐसी घटना आप हो जाएंगे हैरान

लोकसभा चुनाव को लेकर हर तरफ चर्चा आजकल हो रही है। गांव हो या शहर हर चौक चौराहों पर चुनाव की चर्चा हो रही है। अब बात कर रहे हैं संसदीय चुनावों को लेकर अब शह-मात का खेल शुरू हो गया है। सिरसा संसदीय सीट पर अतीत में हुए चुनावों में देश के बड़े चेहरे भी प्रचार के लिए आते रहे हैं। 


चुनाव का आज आपको ऐसा किस्सा बता रहे हैं। जिसे आप सुनकर हैरान हो जाएंगे। 20 अगस्त 1999 को तत्कालीन देश के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने फतेहाबाद में एक रैली को संबोधित किया। वे उस समय इनैलो-भाजपा गठबंधन के प्रत्याशी डा. सुशील इंदौरा के लिए प्रचार करने आए थे। उनके साथ बीजेपी हरियाणा के तत्कालीन प्रभारी नरेंद मोदी भी मौजूद थे। 


ये किस्सा हुआ 
इस जनसभा के दौरान मोदी के साथ एक अजीब किस्सा हुआ। उस समय मंच पर तीन ही व्यक्तियों को ही पार्टी के प्रत्याशी डा. इंदौरा, तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी एवं इनैलो सुप्रीमो व सीएम ओमप्रकाश चौटाला को बैठने की अनुमति थी। ऐसे में फतेहाबाद के तत्कालीन पुलिस कप्तान मनोज यादव ने मोदी को मंच पर जाने से मना कर दिया। कुछ वर्षों के बाद स्थितियां बदलीं। 2014 में देश के नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बन गए। 2019 में फिर से फतेहाबाद में आए। रैली थी और तब मनोज यादव हरियाणा के पुलिस महानिदेशक थे।