home page

सिरसाा में कांग्रेस पार्टी की 24 दिसंबर को होने वाली किसान मजदूर जन आक्रोश रैली को लेकर तैयारियां पूरी

किसान-मजदूर जन आक्रोश रैली के लिए विशाल पंडाल लगाया गया है:  बजरंग गर्ग

ताजा खबरों, बिजनेस, केरियर व नौकरी संबंधित खबरों के लिए

व्हाट्सअप ग्रुप

से जुड़े

 | 
किसान-मजदूर जन आक्रोश रैली के लिए विशाल पंडाल लगाया गया है:  बजरंग गर्ग

mahendra india news, new delhi

हरियाणा के सिरसा में कांग्रेस पार्टी द्वारा रविवार को यानि 24 दिसंबर को किसान मजदूर जन आक्रोश रैली का आयोजन किया जा रहा है। हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रदेश सीनियर प्रवक्ता व जिला प्रभारी बजरंग गर्ग ने कांग्रेस पार्टी होने वाली किसान-मजदूर जन आक्रोश रैली स्थल का दौरा किया। इस अवसर पर कालांवाली के विधायक शीशपाल केहरवाला, वरिष्ठ कांग्रेस नेता राजकुमार शर्मा, युवा कांग्रेस नेता सुमिथ बैनीवाल व अन्य कार्यकर्ता मौजूद रहे। 

बजरंग गर्ग ने रैली स्थल का जायजा लेते हुए टेंट, साउंड, पानी, पार्किंग आदि की व्यवस्था देखी। उन्होंने बताया कि रैली में जनता को बैठने के लिए भव्य पंडाल बनाया गया है और एक मुख्य स्टेज के साथ साथ-साथ 2 बड़े स्टेज बनायें गये है। गाड़ियों के लिए पांच जगह पार्किंग की व्यवस्था की गई है। रैली की देख-रेख के लिए सैकड़ो कार्यकर्ताओं की ड्युटियां लगाई गई है। 


बजरंग गर्ग ने कहा कि किसान आंदोलन में सरकार की लापरवाही के कारण 750 किसान शहीद हुए हैं। उनको श्रद्धांजलि देने के लिए उनकी याद में कांग्रेस पार्टी द्वारा रैली रखी गई है। यह रैली नहीं रेला होगा, जिसमें सिरसा जिले से भारी संख्या में लोग भाग लेंगे। रैली के प्रति जनता में बड़ा भारी उत्साह है। यह सरकार पूरी तरह से किसान, आढ़ती व मजदूर विरोधी सरकार है। देश के पीएम ने किसानों की आय दो गुणा करने की घोषणा की थी परन्तु मोदी जी ने किसानों की आय तो दोगुना नहीं की उल्टा खर्चे जरूर दोगुना कर दिये है। 


बजरंग गर्ग ने कहा कि कांग्रेस सरकार में किसान, आढ़ती, मजदूर व हर वर्ग का नागरिक खुश था। किसान की फसल मंडियों में खुली बोली में बिकती थी। अब सरकार किसान की फसल खरीदने की बजाएं किसान व आढ़तियों  के साथ पोर्टल-पोर्टल खेल रही है यह सरकार सिर्फ पोर्टल की सरकार है सरकार का पोर्टल काम करता नहीं है। किसान अपनी फसल को बेचने के लिए मंडियों में धक्के खाता रहता है। समय पर ना ही फसल की खरीद हो रही है और ना ही मंडियों से उठान हो रहा है ना ही सरकार की तरफ से समय पर भुगतान हो रहा है। जिसके कारण इस राज में किसान बेहद दुखी है और भाजपा सरकार से मुक्ति चाहता है।