home page

संकटमोचन के नाम से मशहूर प्राध्यापक धर्मेंद्र शास्त्री को विद्यार्थी ने दी अनोखी विदाई


विद्यार्थी ने स्किट के माध्यम से उनके महान व्यक्तित्व को उकेरा तो नम् हो गई सबकी आंखें

ताजा खबरों, बिजनेस, केरियर व नौकरी संबंधित खबरों के लिए

व्हाट्सअप ग्रुप

से जुड़े

 | 
 विद्यार्थी ने स्किट के माध्यम से उनके महान व्यक्तित्व को उकेरा तो नम् हो गई सबकी आंखें

mahendra india news, new delhi

अध्यापक समाज की धुरी तथा राष्ट्र निर्माता होते हैं। किंतु मा. धर्मेंद्र शास्त्री स्कूली छात्रों के लिए शिक्षा के साथ-साथ उनके हर दुख-सुख में भी सांझीदार रहे। विद्यार्थियों में संकटमोचन के नाम से मशहूर अध्यापक धर्मेंद्र शास्त्री शिक्षा विभाग में 31 साल की सराहनीय सेवाओं के बाद सेवानिवृत हो गए। फूलकां के राजकीय सीनियर सेकेंडरी स्कूल में आयोजित विदाई समारोह में स्कूली बच्चों ने उनके जीवन के हर पहलु को टच करती ऐसी स्किट पेश की, जिसे सुनकर मौजूद सभी लोगों की आंखें नम हो गई।

स्कूल प्रधानाचार्य देवकी नंदन कौशिक ने बताया कि शिक्षक अपने कार्यकाल के दौरान हर संभव प्रयास विद्यार्थियों को अच्छी शिक्षा व संस्कारों द्वारा उन्नति की ओर ले जाना चाहता है। विद्यार्थियों का सर्वांगीण विकास ही प्रत्येक शिक्षक का मुख्य ध्येय होता है। उन्होंने बताया कि अध्यापक धर्मेंद्र शास्त्री ने अप्रैल 1992 में सिरसा के गांव बरासरी राजकीय हाई स्कूल में संस्कृत अध्यापक पद पर कार्यभार संभाला। 


यहां पर इन्होंने 11 सालों तक अपनी सेवाएं दी। इसके बाद 2004 से 2006 तक सिरसा के ही राजकीय स्कूल खैरेका में नियुक्त रहे। इसके बाद इन्होंने राजकीय सीनियर सेकेंडरी स्कूल नेजाडेला कलां में 11 वर्ष अपनी सेवाएं दी। साल 2017 से  22 नवंबर 2023 तक राजकीय सीनियर सेकेंडरी स्कूल फूलकां में बतौर संस्कृत अध्यापक सेवा दी। गत 23 नवंबर को लंबे इंतजार के बाद पदोन्नति की लिस्ट आई जिसके अनुसार अध्यापक धर्मेंद्र शास्त्री ने बतौर संस्कृत प्रध्यापक राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल खैरपुर में ज्वाइन कर लिया। 


आपको बता दें कि फूलकां स्कूल में आयोजित विदाई कार्यक्रम में छात्र-छात्राओं ने सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी। वहीं केमिस्ट्री प्राध्यापिका वंदना खटकड़ ने मंच संचालन कर कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई। इस दौरान संस्कृत अध्यापक संघ के जिला प्रधान हरिओम भारद्वाज, सुरेन्द्र शास्त्री व सत्यनारायण शास्त्री जी ने मा. धर्मेंद्र शास्त्री को स्मृति चिह्न तथा शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया। इस अवसर पर वरिष्ठ प्राध्यापिका वंदना खटकड़, पार्वती देवी, मंजू शर्मा, परवीन रानी, पूनम रोहिला, कंचन ग्रोवर, प्राध्यापक सतबीर सिंह, प्राध्यापक तेजवीर , प्राध्यापक देव विरेंद्र, शिक्षक रमेश कुमार, जगदीश प्रसाद, दयाल चंद, शिक्षिका हरप्रीत कौर, स्वाति गर्ग, उषा रानी, केहर सिंह तथा प्राइमरी स्कूल स्टाफ  शुगन चंद, राजाराम, पालाराम, संदीप, गुरदेव इत्यादि भी मौजूद रहे।


**
इंटरनेट मीडिया पर सैल्फी विद माइ स्टूडेंट मुहिम लाई रंग
प्राध्यापक धर्मेंद्र शास्त्री ने 6 साल का समय फूलका स्कूल में रहे। इस दौरान उन्होंने स्कूली बच्चों के लिए इंटरनेट मीडिया पर सैल्फी विद माई स्टूडेंट मुहिम चलाई, जिसमें स्कूली बच्चे के जन्मदिन पर अपनी एफबी पर स्टूडेंट के साथ सैल्फी डाली जाती थी, जिसे लोगों ने खूब पसंद किया। संस्कृत प्रवक्ता धर्मेंद्र पाल शास्त्री ने अपने 3 दशक के सेवाकाल में विद्यार्थियों को शिक्षा, संस्कार, समाज सेवा, खेल, सांस्कृतिक गतिविधियों व पर्यावरण सुरक्षा के लिए प्रेरित किया, वहीं निजी खर्च पर बच्चों को टूर पर ले जाना, खासकर बेटियों की शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए किताब, ड्रेस आदि की मदद करना तथा मिड डे मील में बच्चों को अपने खर्च पर देशी घी का हलवा खिलाना, अभिभावकों को बच्चों को कॉलेज शिक्षा में दाखिला करवाने के लिए प्रेरित करना आदि कार्य किए। खास बात यह भी थी कि प्राध्यापक धर्मेंद्र शास्त्री स्कूल में पढ़ने वाली बेटियों को उनके जन्मदिन पर विशेष तौर पर सम्मानित करते थे।