home page

युवाओं को सेना में भर्ती के लिए ऐसे प्रेरित कर रही है हरियाणा की यह ग्राम पंचायत

सेना में भर्ती होकर आने पर हरियाणा के इस गांवों में किया जाता है अनोखे अंदाज में स्वागत  

ताजा खबरों, बिजनेस, केरियर व नौकरी संबंधित खबरों के लिए

व्हाट्सअप ग्रुप

से जुड़े

 | 
 सेना में भर्ती होकर आने पर हरियाणा के इस गांवों में किया जाता है अनोखे अंदाज में स्वागत  

mahendra india news, new delhi

हरियाणा के अंतिम छोर पर राजस्थान सीमा के पास पड़ता है सिरसा जिले का जमाल गांव। सिरसा मुख्यालय से करीबन 25 किलोमीटर की दूरी पर पड़ने वाले इस गांव की ग्राम पंचायत अपनी अलग से पहचान बना रही है। गांव मुखिया विनोद रानी डूडी चाहती है कि गांव के युवा देश की सेवा में अपना योगदान दें। इसी को लेकर युवाओं को समय समय पर सेना में भर्ती होने के लिए प्रेरित किया जाता है। 

 

अभिषेक को खुली जीप में लेकर घर तक छोड़ गया

ऐसे किया जाता है स्वागत 
जब कोई भी युवा सेना में भर्ती होकर गांव में आता है। इसके बाद गांव के शहीद भगत सिंह चौक पर फूलमाला डालकर व मिठाई खिलाकर स्वागत किया जाता है। इसके बाद डीजे की धुन पर नाचते गाते हुए गांव में खुली जीप में घुमाया जाता है। इसके बाद उसे उसके घर पर छोड़ा जाता है। वहीं गांव के  गांव के युवाओं को सेना में भर्ती होने के लिए जागरूक किया जाता है। ऐसे स्वागत को देखकर युवाओं में भी सेना के अंदर भर्ती होने का जोश भर जाता है। 

 
गांव के सरपंच प्रतिनिधि ओमप्रकाश डूडी ने कहा कि गांव के युवाओं को सेना में भर्ती होने के लिए समय समय पर प्रेरित किया जाता है। इसके लिए जब भी कोई युवा गांव में भर्ती होकर आता है, उसका गर्मजोशी से स्वागत किया जाता है। भविष्य में भी यह हमारी मुहिम जारी रहेगी। गांव पूरी तरह से नशा मुक्ति हो, इसके लिए युवाओं को जागरूक किया जा रहा है। 

अभिषेक को खुली जीप में लेकर घर तक छोड़ गया

अभिषेक को खुली जीप में लेकर घर तक छोड़ गया

सिरसा के गांव जमाल में रविवार को इंडियन एयरफोर्स में रडार फीडर की ट्रैनिंग कर लौटे अभिषेक का ग्रामीणों ने गर्मजोशी से स्वागत किया। गांव के शहीद भगत सिंह चौक से अभिषेक को खुली जीप में लेकर घर तक छोड़ गया। इससे पहले गांव में पहुंचने पर गांव के सरपंच प्रतिनिधि ओमप्रकाश डूडी ने फूल माला पहनकर स्वागत किया। वहीं दादा प्रताप धागड़ ने मिठाई खिलाकर स्वागत किया। इस दौरान सैनिक की वर्दी में बेटे को देखकर मां कलावती की आंखों से खुशी के आंसू झलक आए।

गांव निवासी किसान बृजलाल धागड़ के बेटे अभिषेक का इंडियन एयरफोर्स में एक साल पूर्व चयन हुआ। इसके बाद अभिषेक कर्नाटक के बेलगांव में प्रशिक्षण ले था। प्रशिक्षण पूरा होने पर गांव में रविवार को अभिषेक वापस लौटा। इस खुशी में ग्रामीणों ने गर्मजोशी से स्वागत किया। अभिषेक ने बताया कि इस नौकरी में लगने से पहले सेना में भर्ती होने की तैयारी की। मुझे बचपन से ही सेना में भर्ती होने का शौक था। उन्होंने बताया कि पढ़ाई के साथ मुझे कबड्डी खेलने का बहुत ही शौक था।