home page

हरियाणा में प्रथम बार जींद में हुआ श्री श्याम बाबा के धर्मजीवन पर आधारित सजीव मंचन

मुख्य अतिथि सिरसा के विधायक, पूर्व गृहराज्यमंत्री एवं हलोपा सुप्रीमो गोपाल कांडा  ने की पूजा-अर्चना
 | 
 मुख्य अतिथि सिरसा के विधायक, पूर्व गृहराज्यमंत्री एवं हलोपा सुप्रीमो गोपाल कांडा  ने की पूजा-अर्चना

mahendra india news, new delhi

हरियाणा के जींद में श्री अग्रवाल वेलफेयर सोसायटी जींद की ओर से अर्बन स्टेट स्थित अग्रवाल धर्मशाला में हरियाणा में पहली बार श्री श्याम बाबा के धर्मजीवन पर आधारित सजीव मंचन किया जाएगा। कार्यक्रम में सिरसा विधायक, पूर्व गृहराज्यमंत्री एवं हलोपा सुप्रीमो गोपाल कांडा बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए। जिन्होंने पूजा अर्चना कर समारोह का शुभारंभ किया।


आपको बता दें कि इस आयोजन में बालीवुड, थियेटर और टीवी के 40 से अधिक कलाकारों के अभिनय पर दर्शक वाह-वाह कर उठे और भक्तिरस में सराबोर श्रद्धालु जय श्री श्याम, जय श्री श्याम बोलते हुए अपने स्थान पर खड़े होकर मस्ती में झूमने लगे।

मुख्य अतिथि विधायक गोपाल कांडा अपने सहयोगी तेजप्रकाश बांसल, कमलकांत राजपूत, भूपेंद्र सिंह सिसोदिया, अनिल सर्राफ, राजकुमार साहुवाला,  संजय साहुवाला, अश्वनी बांसल, बजरंग गर्ग,  भीम सिंगला,राजेंद्र सिंह, नरेंद्र कटारिया, राजू लाडवाल, हरिप्रकाश शर्मा, राजन शर्मा, हवा सिंह, राजीव गुप्ता, मुकेश सर्राफ, विजय यादव, संजीव शर्मा आदि के साथ समारोह में शामिल हुए। जहां पर  अग्रवाल वेलफेयर सोसायटी जींद की ओर से राकेश सिंघल अध्यक्ष, मनीष सिंगला सचिव,  सुरेंद्र गुप्ता कोषाध्यक्ष,  सुकेश जैन,  डा.पीसी जैन,  अनिल बांसल,  संजय गर्ग,  अनिल अग्रवाल,  रमेश सिंगला, सियाराम गोयल, राजन जैन, मनोज गर्ग, रजनीश गर्ग,  संजीव मित्तल, कुलदीप जैन, सुमित सिंगला,धर्मपाल गर्ग, राजेश सिंगला आदि ने उनका जोरदार स्वागत किया और पगड़ी पहनाकर सम्मान किया।

WhatsApp Group Join Now

विधायक गोपाल कांडा ने विधिविधान के साथ श्री श्याम बाबा की पूजा अर्चना की। गोपाल कांडा ने आयोजकों को 05 लाख रुपये की सहयोग राशि भेंट की।  इसके बाद श्री श्याम बाबा के धर्मजीवन पर आधारित सजीव मंचन हुआ। महाभारत कथा सीरियल फेम  श्रीकृष्ण, पाश्र्व गायक सुरेश वाडेकर,  बालीवुड, टेलीविजन और थियेटर जगत के जाने माने 40 से अधिक कलाकारों के साथ निर्माता योगेश अग्रवाल, निर्देशक प्रदीप गुप्ता द्वारा निर्देशित संगीतमयी, प्रकाशमयी प्रस्तुति दी। 

इस  श्री श्याम लीला का सजीव मंचन देखकर श्रद्धालु आत्मविभोर हो गए।   भजनों पर श्रद्धालु अपनी सीट से उठकर मस्ती में झूमने लगे।  बाद में आयोजकों ने स्मृति चिन्ह भेंटकर उनका सम्मान किया।