home page

सिरसा पुलिस ने पकड़ी लाखों रुपये की हेरोइन, अल्टो कार सवार दो युवक काबू

जिला पुलिस का नशे के खिलाफ अभियान, नशा तस्करों पर पड़ रहा है भारी 

ताजा खबरों, बिजनेस, केरियर व नौकरी संबंधित खबरों के लिए

व्हाट्सअप ग्रुप

से जुड़े

 | 
 जिला पुलिस का नशे के खिलाफ अभियान, नशा तस्करों पर पड़ रहा है भारी 

mahendra india news, new delhi

हरियाणा के SIRSA पुलिस अधीक्षक विक्रांत भूषण के दिशा निर्देशनुसार नशा तस्करों के खिलाफ चलाए जा रहे विशेष अभियान के काफी सार्थक परिणाम सामने आ रहे है। जिला पुलिस द्वारा नशे के खिलाफ चलाया जा रहा अभियान नशा तस्करों पर अब भारी  पड़ता नजर आ रहा है। 

डीजीपी शुत्रजीत कूपर सिरसा में बोले -पुलिस अपना काम जितनी सरलता के साथ करेगी उसकी कार्यप्रणाली उतनी ही कुशल होगी


आपको बता दें कि जिला की एंटी नारकोटिक्स सेल, SIRSA, पुलिस टीम ने गश्त व चेकिंग के दौरान महत्वपूर्ण सूचना के आधार पर कार्रवाई करते हुए सदर थाना क्षेत्र के गांव भम्बूर से ऑल्टो कार सवार दो युवकों को करीब दस लाख रुपये की 105 ग्राम हेरोइन सहित गिरफ्तार करने में बड़ी कामयाबी हासिल की है। 

डॉक्टर की पर्ची के बिना प्रतिबंधित दवाइयों को न बेचे मेडिकल स्टोर संचालक : डीजीपी शत्रुजीत कपूर


एंटी नारकोटिक्स सेल,SIRSA पुलिस टीम के प्रभारी ने बताया कि गिरफ्तार किए गए युवकों की पहचान देवेंद्र सिंह पुत्र गुरदयाल सिंह निवासी गांव भम्बूर व प्रदीप पुत्र भाल सिंह निवासी भीम कॉलोनी सिरसा के रूप में हुई है। 

उन्होंने बताया कि एंटी नारकोटिक्स सेल, SIRSA पुलिस टीम के सहायक उप निरीक्षक जसवीर सिंह के नेतृत्व में एक पुलिस टीम गश्त व चेकिंग के गांव भंबूर क्षेत्र में मौजूद थी। सेल प्रभारी ने बताया कि, इसी दौरान सामने से एक अल्टो कार आती हुई दिखाई दी। उन्होंने बताया कि उक्त कार सवार युवकों ने सामने पुलिस पार्टी को देखकर अचानक कार को वापस मोड़कर खिसकने का प्रयास किया तो पुलिस पार्टी ने शक के आधार पर उक्त कार सवार युवकों को काबू कर राजपत्रित अधिकारी की मौजूदगी में नियमानुसार तलाशी ली तो उनके कब्जा से करीब दस लाख रुपए की 105 ग्राम हेरोइन बरामद हुई। 

सेल प्रभारी ने बताया कि इस संबंध में आरोपियों के खिलाफ थाना सदर सिरसा में मादक पदार्थ अधिनियम के तहत अभियोग दर्ज कर जांच शुरु की गई। एंटी नारकोटिक्स सेल सिरसा प्रभारी ने बताया कि गिरफ्तार किए गए दोनों युवकों को अदालत में पेश कर रिमांड पर लिया जाएगा, और रिमांड अवधि के दौरान आरोपियों से पूछताछ कर हैरोइन तस्करी के इस नेटवर्क से जुड़े अन्य लोगों के बारे में नाम पता मालूम कर उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।