home page

Cobra Snake: क्या वाकई में कोबरा सांप के पास नागमणि होती है, जानें एक्सपर्ट्स की राय

 | 
 Cobra Snake: क्या वाकई में कोबरा सांप के पास नागमणि होती है, जानें एक्सपर्ट्स की राय 
Cobra Snake: ऐसा दावा किया जाता है कि सांपों की कुछ प्रजातियों, जैसे कि किंग कोबरा, के मस्तिष्क में एक निश्चित उम्र के बाद रत्न का निर्माण होता है। यह अमूल्य है और जो इसे प्राप्त कर लेता है वह अपार धन और प्रसिद्धि का स्वामी बन जाता है। लेकिन क्या 'नागमणि' जैसी कोई चीज़ होती है? विज्ञान क्या कहता है?

पौराणिक कहानियों से लेकर कई हिंदी फिल्मों और सीरियल्स में नाग के पास 'नागमणि' का जिक्र मिलता है। ऐसा दावा किया जाता है कि सांपों की कुछ प्रजातियों, जैसे कि किंग कोबरा, के मस्तिष्क में एक निश्चित उम्र के बाद रत्न का निर्माण होता है।

यह अमूल्य है और जो इसे प्राप्त कर लेता है वह अपार धन और प्रसिद्धि का स्वामी बन जाता है। लेकिन क्या सच में ऐसा है? क्या नागमणि जैसी कोई चीज़ होती है? विज्ञान क्या कहता है...

ऐसा माना जाता है कि स्वाति नक्षत्र के दौरान जब बारिश की बूंदें किंग कोबरा के मुंह में जाती हैं तो नागमणि बनती है। नागमणि किंग कोबरा के फन में बनी होती है। कहा जाता है कि नागमणि से भगवान शिव का आशीर्वाद प्राप्त होता है। कोबरा इसे कभी भी अपने फन से बाहर नहीं निकालता।

WhatsApp Group Join Now

भूविज्ञान के अनुसार सांप के पास नागमणि होने की बात बहुत विवादास्पद है। विशेषज्ञों का मानना है कि सांप के सिर के अंदर मणि या मोती बनने की बात का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है और यह संभवतः लोककथाओं और अंधविश्वास का परिणाम है।

वैज्ञानिकों के मुताबिक इंसानों की तरह सांपों में भी पित्त पथरी होती है। बड़े-बड़े पत्थरों से भी पत्थर के टुकड़े निकल आते हैं। ऐसे में संभव है कि पत्थरों के कारण बनी कोई पथरी सांप के शरीर से निकली हो और उसे 'मणि' समझ लिया गया हो और फिर यह गलत धारणा प्रचलित हो गई हो.

आईएफएस अधिकारी सुधा रमन ने एक ट्वीट में सांप के पास नागमणि होने की बात को पूरी तरह से मिथक बताया है। वह लिखती हैं कि अन्य जानवरों की तरह सांप भी मांस और हड्डियों से बने होते हैं।

उनके शरीर में कोशिकाएँ और मांसपेशियाँ भी होती हैं। ऐसा कोई रत्न या अन्य कोई बहुमूल्य पत्थर नहीं है। और ना ही सांप किसी को सम्मोहित कर सकते हैं. नागमणि जैसी भ्रांतियों के कारण हर साल हजारों सांपों की मौत हो रही है।

SCI-ART LAB पर प्रकाशित एक रिपोर्ट में डॉ. कृष्णा कुमारी चल्ला भी नागमणि के दावे का खंडन करती हैं। वह लिखती हैं कि नागमणि या वाइपर स्टोन या स्नेक पर्ल जैसी कोई चीज नहीं है, बल्कि यह एक जानवर की हड्डी या प्लेन स्टोन है, जिसका उपयोग अफ्रीका, दक्षिण अमेरिका, भारत और अन्य देशों में सांप के काटने पर लोक औषधि के रूप में किया जाता है। यह परंपरा 14वीं शताब्दी से चली आ रही है और लोग इसे नागमणि कहते हैं।