home page

Rajasthan news: 2 लाख रुपये में बनाई फर्जी डिग्री, रडार पर आई ये यूनिवर्सिटी

 | 
 Rajasthan news: 2 लाख रुपये में बनाई फर्जी डिग्री, रडार पर आई ये यूनिवर्सिटी
राजस्थान लोक सेवा आयोग से बड़ी खबर है, आयोग की प्राध्यापक हिंदी (स्कूल शिक्षा) प्रतियोगी परीक्षा 2022 में फर्जी डिग्री लेने वालों की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। इस मामले की जांच जारी है. मिली जानकारी के मुताबिक दोनों महिला अभ्यर्थियों के भाइयों ने दो-दो लाख रुपये में फर्जी डिग्री का इंतजाम किया था.

इस मामले को लेकर एसओजी अलग-अलग एंगल से मामले की जांच कर रही है. आपको बता दें कि एसओजी ने बुधवार को सांचौर बागोड़ा भावड़ी गांव वाड़ा निवासी कमला कुमारी (31), उसके शिक्षक भाई दलपत सिंह और चचेरी बहन चितलवाना भूटेल देवड़ा निवासी ब्रह्मा कुमारी और उसके भाई डॉ. सुरेश विश्नोई को कोर्ट में पेश किया. कोर्ट ने चारों को 30 मार्च तक पुलिस रिमांड पर सौंपा है. मामले की जांच अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मुकेश सोनी कर रहे हैं.

20 मार्च को सिविल लाइन थाने में कमला और ब्रह्मा कुमारी के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था. एसओजी ने देर रात गिरफ्तार कर लिया।
21 मार्च को एसओजी ने कमला के शिक्षक भाई दलपत सिंह को गिरफ्तार कर लिया.
एसओजी ने 22 मार्च को ब्रह्मकुमारी के भाई डॉ. सुरेश को जोधपुर एसएन मेडिकल कॉलेज के रेडियोलॉजी विभाग से गिरफ्तार किया था.
23 मार्च को एसओजी ने कोर्ट में पेश कर 27 मार्च तक पुलिस रिमांड लिया। इस दौरान फर्जी दस्तावेज बरामद हुए।

WhatsApp Group Join Now

मेवाड़ यूनिवर्सिटी में डिग्री बनाने के नेटवर्क की जांच
फर्जी पत्रों एवं अन्य दस्तावेजों की जांच

फर्जी डिग्री और उससे जुड़े लोगों के बारे में जांच
मामले में कुछ अन्य दस्तावेज और फर्जी डिग्री की जांच हो रही है

एसओजी की जांच में पता चला कि प्रोफेसर हिंदी (स्कूल शिक्षा) प्रतियोगी परीक्षा 2022 के परिणाम घोषित होने तक कमला और ब्रह्मा दोनों के पास वैध एमए हिंदी की डिग्री नहीं थी। जबकि दोनों वर्धमान महावीर ओपन यूनिवर्सिटी के एमए अंतिम वर्ष के छात्र थे। कमला के शिक्षक भाई दलपत और ब्रह्मा के डॉक्टर भाई डॉ. सुरेश ने बिना डिग्री के प्रतियोगी परीक्षा छोड़ने के बजाय नकली डिग्री लेने का फैसला किया।

डिग्री पाने के लिए करीब दो-दो लाख रुपये खर्च किए। उन्होंने चित्तौड़गढ़ जिले के गंगरार स्थित मेवाड़ विश्वविद्यालय से एम.ए. की उपाधि प्राप्त की। हिंदी की फर्जी डिग्री मिली. लेकिन आरपीएससी की आंतरिक जांच में कमला और ब्रह्माकुमारी का काम पकड़ा गया.