home page

कंपकंपाती ठंड के बीच मौसम विभाग का रेड अलर्ट, आज भी हाड़ कंपा देने वाली हवाएं चलेगी

जानिए आने वाले समय में कैसा रहेगा मौसम

ताजा खबरों, बिजनेस, केरियर व नौकरी संबंधित खबरों के लिए

व्हाट्सअप ग्रुप

से जुड़े

 | 
जानिए आने वाले समय में कैसा रहेगा मौसम

mahendra india news, new delhi

मौसम में ठंड का असर पिछले कई दिनों से चल रहा है। हाड़ कंपा देने वाली ठंड ने लोगों को घरों में कैद करके रख दिया। वहीं, कोहरे की वजह से विजिबिलिटी काफी कम है। इस कोहरे का असर उड़ानों और ट्रेनों पर भी पड़ रहा है। यही वजह है कि कोहरे और कड़ाके की ठंड में कई जिलों में स्कूल भी बंद कर दिए गए हैं।  आमजन को घरों में रहने की अपील की जा रही है। 


आपको बता दें कि ठंड से बचने के लिए लोग आग का भी सहारा ले रहे हैं। विभाग की तरफ से ठंड, कोल्ड डे और कुछ जगहों पर कोहरे को लेकर रेड अलर्ट जारी किया गया है, आने वाले कल के लिए भी येलो अलर्ट जारी किया गया है। उत्तर भारत के पंजाब ,हरियाणा और चंडीगढ़ में भी रेड अलर्ट है, वहीं, राजस्थान में भी ठंड और कोहरे का येलो अलर्ट जारी किया गया है। हालांकि आने वाले दिनों में तापमान में और इजाफा देखने को मिल सकता है। आज दिल्ली की एयर क्वालिटी में उछाल देखने को मिला है।

अगले 24 घंटों के दौरान मौसम की संभावित गतिविधि
आपको बता दें कि मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार पश्चिमी हिमालय के ऊपरी इलाकों में एक या दो स्थानों पर हल्की बारिश और बर्फबारी संभव है। सिक्किम, असम, मेघालय और अरुणाचल प्रदेश में हल्की बरसात हो सकती है।

ओडिशा, लक्षद्वीप, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह और केरल में 1 या 2 स्थानों पर हल्की बरसात संभव है। पंजाब, उत्तर प्रदेश और बिहार के कुछ हिस्सों में और उत्तर-पश्चिमी राजस्थान में एक या दो स्थानों पर ठंडे दिन से लेकर गंभीर ठंडे दिन की स्थिति हो सकती है। हरियाणा में एक-दो स्थानों पर कोल्ड डे की स्थिति बन सकती है। पंजाब, हरियाणा और राजस्थान में एक या दो स्थानों पर शीत लहर की स्थिति बन सकती है।

पंजाब, पश्चिम उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों और बिहार, पश्चिम बंगाल और सिक्किम में कुछ स्थानों पर बहुत घना कोहरा छा सकता है। हरियाणा, जम्मू संभाग, पश्चिम राजस्थान, पश्चिम मध्य प्रदेश और पूर्वी उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में घना कोहरा छा सकता है। एक चक्रवाती परिसंचरण दक्षिण बांग्लादेश पर औसत स्तर से 1.5 कि लोमीटर ऊपर तक फैला हुआ है। 16 जनवरी से एक ताज़ा कमजोर पश्चिमी विक्षोभ पश्चिमी हिमालय क्षेत्र को प्रभावित करने की संभावना है।