home page

हरियाणा में इस दिन रोडवेज कर्मचारियों ने हरियाणा रोडवेज का चक्का जाम करने का किया ऐलान: चाहर

हड़ताल को लेकर सिरसा डिपो में हुई सांझा मोर्चा की अहम् मीटिंग

ताजा खबरों, बिजनेस, केरियर व नौकरी संबंधित खबरों के लिए

व्हाट्सअप ग्रुप

से जुड़े

 | 
हड़ताल को लेकर सिरसा डिपो में हुई सांझा मोर्चा की अहम् मीटिंग

mahendra india news, new delhi

रोडवेज कर्मचारी मांगों को लेकर एक बार फिर से आंदोलन करने वाले हैं। इसी कड़ी में रोडवेज कर्मचारियों ने एक दिन की हड़ताल करने का फैसला लिया है। haryana के सिरसा में सांझा मोर्चा की रोडवेज परिसर में 24 जनवरी को होने वाली हड़ताल को लेकर मीटिंग आयोजित की गई। haryana रोडवेज वर्कर्स यूनियन रजिस्टर्ड नंबर 1 संबंधित सर्व कर्मचारी संघ एंड एआईआरटीडब्ल्यूएफ के राज्य प्रेस सचिव, जिला प्रेस प्रवक्ता व सिरसा डिपो प्रधान व सिरसा डिपो साझां मोर्चा के नेता पृथ्वी सिंह चाहर ने बताया कि मीटिंग की अध्यक्षता सीता सिंह, मोहन लाल सहारण, रिछपाल सिंह संधू ने संयुक्त रूप से की और मंच का संचालन चमन लाल स्वामी ने किया। 


सांझा मोर्चा राज्य कमेटी की ओर से वरिष्ठ नेता आजाद सिंह गिल, संदीप रंगा, कुलदीप पाबड़ा आदि ने भी मुख्य रूप से बैठक में भाग लिया। कर्मचारियों को संबोधित करते हुए आजाद गिल ने कहा कि कर्मचारियों की जायज मांगों लो लेकर सांझा मोर्चा पिछले काफी समय से आंदोलनरत रहा है। सांझा मोर्चा की 30 सूत्रीय मांगपत्र पर सरकार के साथ कई बार बातचीत हो चुकी है, लेकिन उसे हर बार नकार दिया जाता है। जो कर्मचारियों की जायज मांग थी,  सरकार ने भी उन मांगों को लागू करने का सांझा मोर्चा को आश्वासन दिया था, वो भी आज तक धरातल पर लागू नहीं हो पाई। 


कर्मचारी नेता चाहर ने बताया कि 24 दिसंबर 2023 को कर्मचारियों ने करनाल के अंदर मुख्य मंत्री के कैंप कार्यालय का घेराव किया, जिसमें वहा के अधिकारियों द्वारा लिखित में 10 जनवरी से पहले सांझा मोर्चा के साथ मीटिंग करने का लिखित में पत्र दिया था, परंतु तानाशाही सरकार के मंत्री ने सांझा मोर्चा के साथ अभी तक बात करना भी मुनासिब नहीं समझा। उन्होंने बताया कि बात चाहे कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने की बात हो, चालक-परिचालक के वेतन विसंगति को दूर करने की या रोडवेज में लगे डी ग्रुप के कर्मचारियों को प्रमोशन देने का मामला हो या 2016 के चालकों को पक्का करना, पुरानी पेंशन नीति बहाल करना, कर्मचारियों के अर्जित अवकाश की बात हो, किसी पर भी सुनवाई नहीं की गई। 

कर्मचारी नेता चाहर ने बताया कि सरकार हिट एंड रन का जो काला कानून लेकर आई है, जो कि सभी ड्राइवरों पर लागू होता है, चाहे वह मोटरसाइकिल का ड्राइवर हो, ऑटो ड्राइवर हो, कार ड्राइवर हो, बस ड्राइवर हो या ट्रक  ड्राइवर हो। यह काला कानून सभी पर लागू होता है, आम जनता पर लागू हो रहा है। सांझा मोर्चा इसका भी पुरजोर विरोध करता है। हरियाणा रोडवेज और haryana रोडवेज आम जनता से अपील करती है कि इस काले कानून का विरोध करो सडक़ों पर उतरें, ताकि यह काला कानून वापस हो सके।

चाहर ने बताया कि इन सभी मांग व मुद्दों को लेकर सरकार गंभीर नहीं होती और राज्य कमेटी सांझा मोर्चा को वार्तालाप के लिए नहीं बुलाती तो राज्य कमेटी सांझा मोर्चा मीटिंग बुलाकर 24 जनवरी की हड़ताल को अनिश्चितकालीन हड़ताल में बदल सकता है। सांझा मोर्चा ने आह्वान किया है की आने वाली 24 जनवरी को पूरे प्रदेश भर का चक्का जाम किया जाएगा। इस दौरान कोई अप्रिय घटना होती है तो उसकी जिम्मेदारी हरियाणा सरकार की होगी।