home page

ग्रह दोष से मिलेगी मुक्ति, इसके लिए चैत्र नवरात्रि में करें यह 7 उपाय

 | 
ग्रह दोष से मिलेगी मुक्ति, इसके लिए चैत्र नवरात्रि में करें यह 7 उपाय
mahendra india news, new delhi

इस माह में चैत्र नवरात्रि शुरू हो रहे हैं। इस वर्ष चैत्र नवरात्रि अप्रैल माह में 9 तिथि से शुरू हो रही हैं। हिंदू मान्यताओं में पर्व का बहुत महत्व है। इसमें चैत्र नवरात्रि को विशेष महत्वपूर्ण माना जाता है, इस बार की नवरात्रि खरमास में पड़ रही है। इसी को लेकर महत्व बढ़ जाता है, ज्योतिषचार्य पंडित नीरज शर्मा ने बताया कि खरमास में पड़ने वाली चैत्र नवरात्रि में कुछ उपायों को अपनाकर मां दुर्गा को खुशकर उनका आशीर्वाद पा सकते हैं

ये करें उपाय 
मां दुर्गा को चढ़ाएं जाने वाले पुष्पों की बार करें तो मातारानी को मोगरा बहुत प्रिय है, इस नवरात्रि में मां को मोगरा अर्पित कर उनका विशेष आशीर्वाद प्राप्त कर सकते है, इससे आपकी जिंदगी में सुख-समृद्धि आएगी। 


इसी के साथ ही नवरात्रि के दौरान जो मां के लिए जौ बोए जाते हैं, उसकी मिट्टी में एक चांदी का सिक्का गड़ाए, नवरात्रि में नवमी वाले दिन उस सिक्के को निकालकर घर की तिजोरी में रखें, इससे घर में धन-संपदा बढ़ेगी.

WhatsApp Group Join Now


चैत्र नवरात्रि के वक्त माता दुर्गा की पूजा करते वक्त उनके चरणों में लाल चंदन चढ़ाएं, उनको चढ़ा हुआ चंदन अपने मस्तक पर जरूर लगाएं। ऐसा करने से दूसरे को लगी बुरी नजर उतर जाएगी। ग्रह दोष शांति के लिए करें ये उपाय
यदि आपके ऊपर कोई ग्रह दोष लगा हुआ है तो उसे शांत करने के लिए चैत्र नवरात्रि के वक्त लाल रंग के कपड़े में 5 कौड़ियां एक मिट्टी के पात्र में रखकर तुलसी के पास रख दें। यह सभी ग्रह दोषों को शांत कर देगा। 


इसी के साथ ही चैत्र नवरात्रि के समय मां दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए हर दिन दुर्गा सप्तशती का पाठ अवश्य करें. मां दुर्गा के स्त्रोत का पाठ करने से वे आपके सभी कष्टों को दूर कर देंगी। 


चैत्र नवरात्रि में मां दुर्गा की पूजा और सप्तशती का पाठ करने के बाद प्रतिदिन एक लाल फूल लेकर उसे घर की पूर्व दिशा में गाड़ आएं। 9 दिनों तक ऐसा करने से घर में मौजूद सभी तरह की नकारात्मकता नष्ट हो जाएंगी।

 

ऐसा माना जाता है कि चैत्र नवरात्रि में मां दुर्गा के सामने चौमुखी दीपक जलाए, इसमें सरसों का तेल उपयोग करें,  मान्यता है कि सरसों के तेल का दीया जलाने से रुके काम पूरे हो जाते है।