home page

हरियाणा में पशुपालक किसान क्रेडिट कार्ड योजना ऐसे उठाएं ज्यादा से ज्यादा फायदा

पशुपालकों को लोन पर केवल 4 फीसद दर से ब्याज का भुगतान

ताजा खबरों, बिजनेस, केरियर व नौकरी संबंधित खबरों के लिए

व्हाट्सअप ग्रुप

से जुड़े

 | 
पशुपालकों को लोन पर केवल 4 फीसद दर से ब्याज का भुगतान

mahendra india news, new delhi

HARYANA में पशुपालकों के लिए बहुत ही सरकार की तरफ से अच्छी योजना चलाई हुई है। इस योजना के तहत 
पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड योजना के तहत किसानों को गाय, भैंस, भेड़, बकरी, सूकर, मुर्गी के रखरखाव के लिए तीन लाख रुपए तक का लोन देने का प्रावधान है ताकि पशुपालकों की आर्थिक स्थिति में सुधार हो सके।   

आपको बता दें कि इस योजना से छोटे किसानों को पशुपालन व अन्य स्रोतों से होने वाली आय को बढ़ाने के उद्देश्य से यह योजना क्रियान्वित की जा रही हैं। हरियाणा में सिरसा के D C पार्थ गुप्ता ने बताया कि पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड योजना के तहत किसान अपने पशुओं की देखभाल के लिए होने वाले खर्च के लिए पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड के माध्यम से ऋण प्राप्त कर सकता है। कोई भी पशुपालक एक लाख 60 हजार रुपये तक की राशि की लिमिट तक का पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड बिना कोई जमीन गिरवी रखे व बिना किसी गारंटी के कोलैटरल सुरक्षा बनवा सकता है।   


जिला उपायुक्त ने बताया कि यदि कोई पशुपालक इस राशि से अधिक लिमिट का पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड बनवाना चाहता है तो उसे अपनी जमीन या कोई जमानत देना अनिवार्य होगा। उन्होंने बताया कि पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड धारक को सालाना सात प्रतिशत साधारण ब्याज दर पर बैंक द्वारा ऋण दिया जायेगा।


सिरसा के D C गुप्ता ने स्पष्ट किया कि यदि कार्डधारक अपने लोन का समय पर भुगतान करता है तो उसे केंद्र सरकार की तरफ से 3 फीसद ब्याज दर का अनुदान दिया जाएगा तथा उस पशुपालक को यह ऋण केवल चार प्रतिशत के हिसाब से चुकाना होगा। उन्होंने बताया कि 7 फीसद ब्याज दर के हिसाब से अधिकतम तीन लाख रुपये तक की लोन राशि पर केंद्र सरकार की ओर से 3 प्रतिशत ब्याज दर का अनुदान दिया जायेगा।


उन्होंने बताया कि कार्डधारक द्वारा लोन की राशि जरूरत के अनुसार समय-समय पर ली जा सकती है और सुविधा अनुसार जमा करवाई जा सकती है। कार्ड धारक को लोन राशि निकलवाने या खर्च करने के एक साल की अवधि के अंदर किसी भी एक दिन लिए गए लोन की पूरी राशि को जमा करवाना अनिवार्य है ताकि वर्ष में एक बार लोन शून्य हो जाए।
-----------