home page

हरियाणा में आईटीआई प्रिंसिपलों के रिक्त पदों के कारण हो रही शिक्षा की गुणवता प्रभावित : ढींडसा

हरियाणा राज्य में 194 आईटीआई 

ताजा खबरों, बिजनेस, केरियर व नौकरी संबंधित खबरों के लिए

व्हाट्सअप ग्रुप

से जुड़े

 | 
हरियाणा राज्य में 194 आईटीआई 

mahendra india news, new delhi 

अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त वैज्ञानिक एवं SIRSA स्थित जननायक चौधरी देवीलाल विद्यापीठ सिरसा के महानिदेशक डॉ. कुलदीप सिंह ढींडसा के अनुसार हरियाणा में औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई) प्रिंसिपलों के रिक्त पद हैं। जिससे शिक्षा व प्रशिक्षण की गुणवता प्रभावित हो रही है। स्थिति का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि प्रधानाचार्य के करीब 80 प्रतिशत पद खाली पड़े हैं और पिछले कुछ सालों से इन्हें भरा नहीं गया है.

HARYANA सरकार के सूत्रों के अनुसार राज्य में 194 आईटीआई हैं। इनमें ग्रुप ए श्रेणी के लिए प्रिंसिपल के 55 और ग्रुप बी के लिए 139 पद आरक्षित हैं।

इनमें से ग्रुप A के 19 शैक्षणिक और ग्रुप B के 135 पद खाली पड़े हैं, जबकि केवल 40 प्रधानचार्य - ग्रुप Aके 36 और ग्रुप B के 4 पदों पर प्रिंसिपल कार्यरत हैं। ग्रुप बी के कुल पदों में से 50 प्रतिशत को हरियाणा लोक सेवा आयोग के माध्यम से सीधी भर्ती के तहत रखा गया है, जबकि शेष 50 पर पदोन्नति कोटा के माध्यम से भर्ती की जाती है। प्राचार्यों की कमी के कारण आईटीआई में शिक्षा और प्रशिक्षण की गुणवत्ता के साथ-साथ विभिन्न योजनाओं और परियोजनाओं के कार्यान्वयन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। 


उन्होंने बताया कि  उचित निगरानी की कमी के कारण छात्रों को भी परेशानी होती है क्योंकि जिन स्टाफ सदस्यों को प्रिंसिपल का प्रभार दिया गया है, वे पहले से ही अत्यधिक बोझ से दबे हुए हैं क्योंकि उन्हें  गतिविधियों के साथ-साथ अपनी कक्षाओं का संचालन भी करना होता है।

पिछले 7 वर्षों में ग्रुप B के प्रधानाध्यापकों की ग्रुप अनुदेशकों के पदों से कोई पदोन्नति नहीं हुई है। कुछ नियमित प्रिंसिपल अपने संस्थानों की देखभाल के साथ-साथ 5 से चार ITI का प्रभार भी देख रहे हैं। डा. ढींडसा ने सरकार से अपील की है कि खाली पदों को शीघ्र से शीघ्र भरा जाए ताकि विद्यार्थियों को उचित प्रशिक्षण दिया जा सके।